Dreams: बेशर्म बेबाक सपने

Hindi Poetry बेशर्म बेबाक सप

Dreams, a fragment of our imagination, dreams a reality of our existence, dreams that define our being our future, dreams that mark our abilities. We are what we dream ourselves to be.

लकीर सी सीधी ,सिमटी सपाट ज़िन्दगी

ना कोई हलचल

ना रंज-ओ-गम ना

किसी हरकत का नामोनिशां

सिकुड़ती शर्माती ज़िन्दगी की कलाई मरोड़ते

बेशर्म बेबाक सपने

 

अपनी मस्ती मे चूर

रंगीनियत पे मगरूर

ना बंदिश ना पर्दा

साहिल पे लहरो से सर पटकते

बेशर्म बेबाक सपने

 

हसरतों पर पड़ी धूल

एक फूँक से साफ़ कर

वीरान अंधेरो मे

चिराग से रोशन

दिल की सतह पे बुलबुले से फूटते

बेशर्म बेबाक सपने

 

दफ़ा हो की मुझे तेरी ज़रूरत नहीं

खुश हु इस हाल मे

भीड़ मे भी तन्हा अकेली

कम्बक्त फिर भी दामन न छोड़ते

बेशर्म बेबाक सपने

 

मेरे अलावा कोंन है तेरा

बोले ये तल्खी से

दो दिन का रैन बसेरा

किसी से उम्मीद ना क

र बाहें पकड़ जोरो से झकझोरते

बेशर्म बेबाक सपने

 

क्यों झिझके, क्यों है खोफ्ज़दा

ऊचाइया है तेरी

डर की परछाइयो से बाहर तो आ

बेजान जिस्म मे जान फूकते

बेशर्म बेबाक सपने

 

एक बार मोहब्त कर मुझसे

कुछ पलो को ही सही

बना के देख हमराही ,हमसफ़र, ,हमनवा

जीने की नई उम्मीद भरते

बेशर्म बेबाक सपने

– गरिमा नाग

 

 

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda.

Must Read

Hot Picks

Keep in Shape: Essential fitness equipment while traveling

If you’re traveling, it’s likely you’re enjoying all the new cuisine and not thinking...

Top 10 Most Scenic Expressways in India You Must...

India is a country full of diversity and the country has the highest class...

3 Main Causes Of Sleep loss & Disrupted Sleep

Are you lying awake at night and waking up groggy in the morning? What...

Top 10 Best Countries to Visit in September 2020:...

There’s a saying: “Travel is the Only Thing You Buy that Makes You Richer”....

Relationship Tips: How To Avoid Argument & Initiate Discussion?

We are living in a very volatile world. Every now & then we tend...

12 Awesome Things To Do In Jeju Island

Jeju Island is one of the most sought after destinations in South Korea. Summer...

Popular Categories

Follow us on Instagram

Hindi Poetry बेशर्म बेबाक सप

Dreams, a fragment of our imagination, dreams a reality of our existence, dreams that define our being our future, dreams that mark our abilities. We are what we dream ourselves to be.

लकीर सी सीधी ,सिमटी सपाट ज़िन्दगी

ना कोई हलचल

ना रंज-ओ-गम ना

किसी हरकत का नामोनिशां

सिकुड़ती शर्माती ज़िन्दगी की कलाई मरोड़ते

बेशर्म बेबाक सपने

 

अपनी मस्ती मे चूर

रंगीनियत पे मगरूर

ना बंदिश ना पर्दा

साहिल पे लहरो से सर पटकते

बेशर्म बेबाक सपने

 

हसरतों पर पड़ी धूल

एक फूँक से साफ़ कर

वीरान अंधेरो मे

चिराग से रोशन

दिल की सतह पे बुलबुले से फूटते

बेशर्म बेबाक सपने

 

दफ़ा हो की मुझे तेरी ज़रूरत नहीं

खुश हु इस हाल मे

भीड़ मे भी तन्हा अकेली

कम्बक्त फिर भी दामन न छोड़ते

बेशर्म बेबाक सपने

 

मेरे अलावा कोंन है तेरा

बोले ये तल्खी से

दो दिन का रैन बसेरा

किसी से उम्मीद ना क

र बाहें पकड़ जोरो से झकझोरते

बेशर्म बेबाक सपने

 

क्यों झिझके, क्यों है खोफ्ज़दा

ऊचाइया है तेरी

डर की परछाइयो से बाहर तो आ

बेजान जिस्म मे जान फूकते

बेशर्म बेबाक सपने

 

एक बार मोहब्त कर मुझसे

कुछ पलो को ही सही

बना के देख हमराही ,हमसफ़र, ,हमनवा

जीने की नई उम्मीद भरते

बेशर्म बेबाक सपने

– गरिमा नाग

 

 

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda.

Must Read

Hot Picks

10 Easy & Fun Ways To Meet People While...

The world is a book and those who do not travel read only a...

Top 10 Millennial Travel Trends 2020 To Look Out...

As the world is gearing up for a new decade, a whole new generation...

International Giveaway on GARIMA NAG Instagram

The year 2018 has been great. I traveled, explored, collaborated and did loads of...

Review: Aveeno Baby Daily Bathtime Solutions

Babies are precious. They need special gentle care on a daily basis. There is...

Top 15 Best Food Delivery Apps in India During...

As we are facing a 21 days Coronavirus Lockdown in India, it is getting...

Top 15 Richest Cities in India 2021 Based on...

India is the 3rd Richest country with GDP estimated to attain a level of ...

Popular Categories

Comments

  1. few lines by me… please rply hw is it???

    टूट चुकी है जो साखे पेड़ों से,
    अक्सर घंटों उनकों मैं देखा करता हूँ,
    पता है ऐसी साखो पर फूल नहीं खिला करते,
    फिर भी एक उम्मीद में अब भी उनको सींचा करता हूँ.

    रेत सागर के किनारे कि जो सूख चुकी है,
    अक्सर घंटों उस पर मै लेटा करता हूँ,
    पता हैं ऐसी रेत से महल नहीं बना करते,
    फिर भी एक उम्मीद में उस रेत से घरौंदा बनने कि कोशिश करता हूँ.

    टुकड़े काँच के जो आइने से टूटे हैं,
    अक्सर हर कांच के टुकड़े मे सपनों के टुकड़े देखा करता हूँ,
    पता हैं मिल कर भी हर टुकड़ा अपनी तस्वीर बनाता हैं,
    फिर भी एक उम्मीद में हर टुकड़े को जोड़ा करता हूँ.

    जिंदगी जो हर घड़ी नए रंग दिखती हैं,
    अक्सर हर रंग से सन जाया करता हूँ,
    पता है ज़िंदगी के सारे लम्हे मेरे नही हो सकते,
    फिर भी एक उम्मीद में हर लम्हे में ज़िंदगी जीया करता हूँ..

  2. Goosebumps!

    Your thoughts, words, expressions are beautiful and inspiring. It is an extremely beautifully written poem Garima.

    Awesome work!!

  3. toooo gooood !!

    सिकुड़ती शर्माती ज़िन्दगी की कलाई मरोड़ते
    बेशर्म बेबाक सपने

    love these lines :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here