Muzaffar Nagar Riot: क्या दर्द होता है गुलिस्ता खोकर

B_Id_418938_Muzaffarnagar

A poem dedicated to the victims of muzaffar nagar riot.

इक जार जार रोती माँ,

इक सकपकाया भूखा बच्चा.

इक बदहवास सा बाप,

न जाने क्या झूटा क्या सच्चा.

कुछ पल पहले अमन था, सुकून था,

जहन्नुम हो गया सब

जाने कहा से आये ये वेह्शी,

बस गर्द-ओ-गुबार है अब

हम तो सालो से अमन चैन से रहते थे,

न कोई गम न गिला.

हर हाल मे खुश रहते थे

ये बदले की आग

ये नफरत , ये जोश

ये हम नहीं कोई और है

हम ना जाने जात पात ,

मज़हब ,ना रीती रिवाज़

चला ये कैसा अज़ब दॊर है

माँ के सीने से लगा बच्चा ,

बे-उम्मीद इक टक ताकता है.

क्या जुर्म है मेरा ना जानू

हर ज़र्रे से पनाह मागता है

क्या भूख , क्या लालच ,क्या हवस

इन सत्ता के भूखे लोगो की

खून पिए मासूमो का ये ,

कमी कहा ऐसे मोको की

कभी जात-पात, कभी मज़हब ,

कभी सरहद के नाम लड़वाते है

चंद कागज़ के टुकडो के लिए

सेकड़ो गोदे सूनी कर जाते है

ऎ काश कभी ऐसा हो

मेरी भी सुन ले खुदा

हर दंगे , फसाद, विस्फोट मे

करू इन खुदगर्जो को खड़ा

जले इनके जिगर ,

खून बहे अपनों का

ज़लज़ला आये ज़िन्दगी मे

कत्ल हो सारे सपनो का

जब भटकेगे दर दर ये

बे-पर्दा ,बे-पनाह हो कर

हो सकता है तब समझे

क्या दर्द होता है गुलिस्ता खोकर

-गरिमा नाग

Must Read

Hot Picks

K-Travel Bus: Best & Safest Way To Explore South...

I asked a lot of my friends, real-life & online friends, What do they...

5 Essential Travel Tips For Senior Citizens

Traveling has become a way of life. People, irrespective of their age, travel around...

How to Lose weight in a healthy way?

YES!!!  , so the title caught your attention.  what was your idea ??? ha ha......

Review: Johnson’s Shiny Drops Kids Shampoo

Johnson's has come up with a new product for pre-teen girls, Johnson's Shiny drops...

Månafossen & Friluftsgarden Mån- Best Hike in Dirdal

Månafossen or the Moon Waterfall is one of the largest & most popular falls...

Top 15 Richest Temples in India & Their Net...

Temples in India are not the places of praying & worshiping. It is associated...

Popular Categories

Follow us on Instagram

B_Id_418938_Muzaffarnagar

A poem dedicated to the victims of muzaffar nagar riot.

इक जार जार रोती माँ,

इक सकपकाया भूखा बच्चा.

इक बदहवास सा बाप,

न जाने क्या झूटा क्या सच्चा.

कुछ पल पहले अमन था, सुकून था,

जहन्नुम हो गया सब

जाने कहा से आये ये वेह्शी,

बस गर्द-ओ-गुबार है अब

हम तो सालो से अमन चैन से रहते थे,

न कोई गम न गिला.

हर हाल मे खुश रहते थे

ये बदले की आग

ये नफरत , ये जोश

ये हम नहीं कोई और है

हम ना जाने जात पात ,

मज़हब ,ना रीती रिवाज़

चला ये कैसा अज़ब दॊर है

माँ के सीने से लगा बच्चा ,

बे-उम्मीद इक टक ताकता है.

क्या जुर्म है मेरा ना जानू

हर ज़र्रे से पनाह मागता है

क्या भूख , क्या लालच ,क्या हवस

इन सत्ता के भूखे लोगो की

खून पिए मासूमो का ये ,

कमी कहा ऐसे मोको की

कभी जात-पात, कभी मज़हब ,

कभी सरहद के नाम लड़वाते है

चंद कागज़ के टुकडो के लिए

सेकड़ो गोदे सूनी कर जाते है

ऎ काश कभी ऐसा हो

मेरी भी सुन ले खुदा

हर दंगे , फसाद, विस्फोट मे

करू इन खुदगर्जो को खड़ा

जले इनके जिगर ,

खून बहे अपनों का

ज़लज़ला आये ज़िन्दगी मे

कत्ल हो सारे सपनो का

जब भटकेगे दर दर ये

बे-पर्दा ,बे-पनाह हो कर

हो सकता है तब समझे

क्या दर्द होता है गुलिस्ता खोकर

-गरिमा नाग

Must Read

Hot Picks

Best 5 places to spend Chuseok holidays in South...

 Chuseok or Korean thanksgiving day is a one of the major annual festivals in...

10 Best Indoor places for kids in Geoje

As the winter holidays have already started, we parents desperately need some places to...

50 Best places to visit in India (Month Wise...

India is a mesmerizing country with unity in diversity and there are many enchanting...

10 Ultimate Adventure Sports in India for the Daredevil...

Like many foreign countries, even India has picked up its pace in offering thrilling...

Dress Code: evening dresses VS office dresses

Everyone knows the importance of dressing as per the occasion. It’s almost an adage...

Buying Formal Men’s Watches: The Complete Guide

Wristwatch for men has become an imminent part of styling. Especially for the newer...

Popular Categories

Comments

  1. Comment by Kumar Amant “Danga Karwane wale Insaniyat ke dushman Hote Hai ……….. Wonki na Koi Jaati hati Hota…… hai……..na Koi Imman ……. na Koi Dharam…..

    Dear Kumar Amant “aapne sahi kaha . Hum logo ko samjhna chahiye ki ye ‘divide & rule ‘ ka formula aaj bhi hum par use kiya jata hai . Pehle dusre mulk ke log they , aaj humare Hindustani hi hai “.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here